[ad_1]

Grapes for Gut : आयुर्वेदिक के जानकार बहुत पहले से समझाते आए हैं कि पाचन तंत्र यानी डाइजेस्टिव सिस्टम (Digestive System)  की स्थिति आपके पूरे स्वास्थ्य को कैसे परिभाषित और प्रभावित करती है. और अब, इस दावे को दुनियाभर की स्टडी और मेडिकल एक्सपर्ट्स द्वारा वेरिफाइड किया गया है. जब तक इसके बैक्टीरिया का लेवल खराब नहीं हो जाता, तब तक हमें इस बात का एहसास नहीं होता है कि पूरी हेल्थ के लिए आंत की सेहत (Gut Health) कितना महत्वपूर्ण है. फिटनेस हो, डाइजेस्टिव हेल्थ हो या फिर सूजन का रिस्क, आंत (Gut) की स्थिति मस्तिष्क यानी ब्रेन के साथ संचार करती है, जिससे शरीर के बाकी हिस्सों पर असर पड़ता है. आंत बैक्टीरिया यानी गट बैक्टीरिया के असंतुलन (gut bacteria imbalance) के मामले में, पेट और आंतों में भी दर्द का अनुभव होने की संभावना है. डाइटीशियन और न्यूट्रीशनिस्ट (Dietitian and Nutritionist) स्ट्रेस लेवल को मैनेज करने, रेगुलर एक्सरसाइज करने और आंत की हेल्थ को बनाए रखने के लिए संतुलित आहार का पालन करने पर जोर देते हैं. और अब, यूसीएलए (UCLA)  यानी यूनिवर्सिटी ऑप कैलिफोर्निया, लॉस एंजिल्स की नई स्टडी के अनुसार, एक ऐसा फल है जिसे आंत की हेल्थ के लिए इफैक्टिव माना गया है.

फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों को बार-बार आंत की सेहत के लिए फायदेमंद माना गया है. हेल्थ जर्नल न्यूट्रिएंट्स (Nutrients) में प्रकाशित नई स्टडी अनुसार, विशेषज्ञों ने निष्कर्ष निकाला कि एक विशेष फल है, जो पित्त एसिड के स्तर (bile acid levels), कॉलेस्ट्रॉल और आंत माइक्रोबायोम (gut microbiome) पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है. ये फल है अंगूर (Grapes), यूसीएलए की एन नई स्टडी के अनुसार, अंगूर बेहतर कोलोन (पाचन तंत्र का अंतिम भाग) हेल्थ (Colon Health) , कीमोथेरेपी के लक्षणों (chemotherapy symptoms) से निपटने और समग्र आंत की सेहत (Gut Health) के लिए प्रभावी माना गया है.

कैसे हुई स्टडी
इस स्टडी के लिए, विशेषज्ञों ने प्रतिभागियों की हेल्थ पर अंगूर के प्रभाव के लिए चार सप्ताह की अवधि में जांच की. प्रतिभागियों ने हर दिन (46 ग्राम) अंगूर की दो सर्विंग्स का सेवन किया और चार सप्ताह के बाद, विशेषज्ञों ने उनके एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल के स्तर में 5.9 प्रतिशत की गिरावट और आंत माइक्रोबायोम में भी सुधार देखा. आंत की हेल्थ (Gut Health) के लिए अंगूर के लाभों को उनकी हाई फाइबर सामग्री और कैटेचिन – फाइटोकेमिकल्स (Catechins – Phytochemicals) के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है जो शरीर को सूजन से लड़ने में मदद करते हैं और आंत के वनस्पतियों में अच्छे और बुरे बैक्टीरिया के बीच संतुलन बनाते हैं.

यह भी पढ़ें- आलू के छिलकों में छिपे होते हैं कई न्‍यूट्रिशन, इन्‍हें फेंकने से पहले जान लें जबरदस्‍त फायदे

आंत की हेल्थ किस तरह पूरी बॉडी को प्रभावित करती है?
आंत माइक्रोबायोम में परिवर्तन, जैसा कि यूसीएलए द्वारा समझाया गया है, मेटाबॉलिज्म संबंधी विकार, हार्ट डिजीज रोग और मोटापे के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है. वहीं चिड़चिड़ा करने वाला आंत्र सिंड्रोम (irritable bowel syndrome) और पेट दर्द व बेचैनी को भी बढ़ा सकता है. वैकल्पिक रूप से, एक हेल्थी आंत के साथ, इम्यून सिस्टम अधिक सुचारू रूप से काम कर सकता है और बीमारी के जोखिम को कम कर सकता है.

यह भी पढ़ें-  स्ट्रोक और डिमेंशिया का रिस्क कम कर सकती है चाय-कॉफी की चुस्की- स्टडी

स्टडी का नतीजा इस बात पर प्रकाश डालता है कि कैसे साबुत अंगूर और यहां तक ​​कि अंगूर का पाउडर आंत के माइक्रोबायोम और हेल्थ के लिए फायदेमंद हो सकता है. हालांकि इस बारे में  अधिक शोध की आवश्यकता है कि अंगूर किस प्रकार पूरे शरीर के लिए फायदेमंद हो सकते हैं, यह कहा जा सकता है कि कोई भी इस स्वादिष्ट फल (अंगूर) की एक कटोरी का बेहिचक आनंद ले सकता है.

 अंगूर के अन्य स्वास्थ्य लाभों पर एक नज़र डालें

– ब्लड प्रेशर करता है
– हड्डियों को मजबूत करता है
– कैंसर के खतरे को कम करता है
– डायबिटीज के खतरे को दूर करता है
– संज्ञानात्मक स्वास्थ्य (cognitive health) में सुधार कर सकते हैं

Tags: Health, Health tips, Healthy Foods, Lifestyle



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.