[ad_1]

Diwali 2021 Maa Lakshmi: दिवाली (Diwali) पर मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए लोग तरह-तरह के तरीके अपनाते हैं. लेकिन अनजाने में घर में मौजूद उन चीजों का अपमान करते रहते हैं, जिनका सम्बन्ध मां लक्ष्मी (Maa Lakshmi) से माना जाता है. दरअसल मां लक्ष्मी को धन-वैभव और सुख-समृद्धि की देवी कहा जाता है. ऐसे में घर में कई चीजें ऐसी होती हैं जिनका सम्बन्ध मां लक्ष्मी  से जुड़ा माना जाता है. इसी वजह से दिवाली के दिनों में इन चीजों को घर पर लाना बेहद शुभ होता है और इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है. लेकिन अगर आप इनका अपमान करते हैं तो देवी लक्ष्मी इससे नाराज़ (Angry) हो जाती हैं और घर से सुख-समृद्धि चली जाती है. अगर आप चाहते हैं कि मां लक्ष्मी आपसे नाराज न हों तो आपको किन चीजों का अपमान नहीं करना चाहिए, आइये जानते हैं.

श्रृंगार का सामान और आभूषण

महिलाओं के साज-श्रृंगार के सामान में मां लक्ष्मी का वास माना जाता है. देवी लक्ष्मी समृद्धि और वैभव की देवी मानी जाती हैं और साज-श्रृंगार व आभूषण का सम्बन्ध वैभव को दर्शाता है. इसी वजह से इन चीजों को मां लक्ष्मी से जोड़ कर देखा जाता है. इसलिए साज-श्रृंगार के सामान और आभूषणों को कभी भी बिखेरकर और गंदे तरीके से नहीं रखना चाहिए. इससे मां लक्ष्मी नाराज हो सकती हैं.

ये भी पढ़ें: Diwali 2021: इन 5 चीजों के इस्तेमाल से देवी लक्ष्मी होती हैं नाराज, पूजा में न करें इस्तेमाल

घर के बर्तन

किचन में  मौजूद बर्तनों में खाना खाया जाता है और खाने का सम्बन्ध भी सुख-समृद्धि से होता है. इसी के चलते ये माना जाता है कि देवी लक्ष्मी मां अन्नपूर्णा के रूप में इनसे सीधे तौर पर जुड़ी होती हैं. इसलिए कभी भी बर्तनों को गंदा या झूठा नहीं छोड़ना चाहिए. इससे मां लक्ष्मी नाराज हो सकती हैं.

झाड़ू

झाड़ू का अपमान भी आपको कभी नहीं करना चाहिए. इससे भी मां लक्ष्मी आपसे नाराज हो सकती हैं और घर से सुख-समृद्धि जा सकती है. इसलिए कभी भी झाड़ू को पैर नहीं लगाना चाहिए और इसको कभी भी खड़ा करके नहीं रखना चाहिए. झाड़ू को हमेशा लिटा कर और छुपा कर रखना चाहिए. इसके साथ ही झाड़ू को कभी भी दान में नहीं देना चाहिए.

ये भी पढ़ें: Diwali 2021 Rangoli Designs: मां लक्ष्मी के भव्य स्वागत के लिए घर के आंगन में बनाएं रंगोली, देखें डिजाइन

शंख

अगर आपके घर  में शंख है तो आप इसका भी कभी अपमान न करें. ऐसा करने से मां लक्ष्मी आपसे नाराज हो सकती हैं. शंख को इधर-उधर न डालकर हमेशा साफ़ करके पूजा स्थल पर ही रखें. शंख को भी मां लक्ष्मी से जोड़कर देखा जाता है. कहा जाता है कि समुद्र मंथन के दौरान देवी लक्ष्मी और शंख प्रकट हुए थे और देवी लक्ष्मी शंख को अपने भाई का दर्जा देती हैं.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.