[ad_1]

Fasting with exercise is more Healthy : उपवास/व्रत यानी फास्टिंग (Fasting) तो कई लोग करते हैं, लेकिन इन सभी लोगों में उपवास को लेकर जो कॉमन कंसेप्ट है, वो ये कि उपवास से पहले जमकर खाया जाए और उपवास के दौरान श्रम यानी मेहनत का काम ना करें. अगर आप भी ऐसा मानते हैं तो हाल ही में हुई एक नई स्टडी आपकी ये राय बदल सकती है. इस स्टडी में बताया गया है कि उपवास की शुरुआत में व्यायाम यानी एक्सरसाइज (Exercise) की जाए तो उपवास से हेल्थ को होने वाला फायदा और भी बढ़ जाता है. अमेरिका की ब्रिघम यंग यूनिवर्सिटी (Brigham Young University) की इस स्टडी के नतीजे ‘मेडिसिन एंड साइंस इन स्पोर्ट्स एंड एक्सरसाइज (Medicine and science in sports and exercise)’ में प्रकाशित किए गए हैं.

ब्रिघम यंग यूनिवर्सिटी (Brigham Young University) के रिसर्चर लैंडन डेरु (Landon Deru) ने बताया, ‘हम ये जानना चाहते थे कि क्या उपवास के दौरान एक्सरसाइज के जरिये मेटाबॉलिज्म में बदलाव लाया जा सकता है. शरीर में अम्लरक्तता यानी किटोसिस (ketosis) की प्रक्रिया तब शुरू होती है, जब ग्लूकोज की मात्र समाप्त हो जाती है. इसके बाद शरीर की ऊर्जा जरूरतों की पूर्ति के लिए पहले से जमा फैट का विखंडन (Fragmentation) शुरू होता है और इस केमिकल प्रोसेस में सह-उत्पाद (बाइप्रोडक्ट) के रूप में कीटोन्स (ketosis) का भी निर्माण होता है. ब्रेन और हार्ट के लिए एक हेल्दी एनर्जी सोर्स होने के साथ ही कीटोन्स- कैंसर, पार्किसंस और अल्जाइमर जैसे रोगों से मुकाबला करने में भी सहायक होता है.’

रिसर्चर्स ने अपनी स्टडी के लिए 20 हेल्दी लोगों को पानी पीते हुए दो बार 36-36 घंटे का उपवास रखने को कहा. दोनों ही उपवास मानक भोजन के बाद शुरू हुए. पहला उपवास बिना किसी एक्सरसाइज के शुरू हुआ, जबकि दूसरा उपवास ट्रेडमिल वर्कआउट से. प्रतिभागियों के जगे रहने के दौरान हर दो घंटे में उनके मूड का आकलन किया गया और उनके बी-हाइड्रोक्सीबुटारेट (बीएचबी) का स्तर भी रिकॉर्ड किया गया. यह कीटोन जैसा एक रसायन है.

एक्सरसाइज से बड़ा फर्क देखने को मिला
एक्सरसाइज से साथ उपवास शुरू करने पर उनमें किटोसिस की प्रक्रिया औसतन तीन से साढ़े तीन घंटे पहले शुरू हुई और उनमें 43 प्रतिशत ज्यादा बीएचबी पैदा हुआ. इसके पीछे सामान्य सिद्धांत यह है कि व्यायाम से शरीर का ग्लूकोज पर्याप्त मात्र में बर्न होता है, जिससे किटोसिस का ट्रांजिशन तेज हो जाता है. जबकि व्यायाम नहीं करने वाले प्रतिभागियों में किटोसिस 20 से 24 घंटे बाद शुरू हुआ.

यह भी पढ़ें- Benefits Of Mustard Greens: सर्दियों में इम्यूनिटी को बनाना हो स्ट्रांग तो डाइट में शामिल करें सरसों का साग

रिसर्च के सह-लेखक ब्रूस बेली (Bruce W Bailey) ने बताया, उपवास में 20 से 24 घंटे के बीच का समय बड़ा कठिन होता है. ऐसे में सवाल यह था कि ऐसा क्या किया जा सकता है, जिससे कि उपवास 24 घंटे के पहले तोड़ा जा सके, लेकिन स्वास्थ्य संबंधी फायदा उतना ही मिले. इसके लिए क्या 24 घंटे का उपवास व्यायाम के साथ शुरू किया जा सकता है. हालांकि इस रणनीति के लिए कुछ सतर्कता भी जरूरी हैं. बेली ने बताया कि यदि आप भरपूर खाना खाने के बाद व्यायाम करने के साथ भी उपवास शुरू करते हैं तो कई दिनों तक आपमें किटोसिस की प्रक्रिया शुरू नहीं होती है. इसलिए, जरूरी है कि उपवास शुरू करने से पहले मध्यम खाना ही लेना चाहिए.

यह भी पढ़ें- कोरोना के खिलाफ इम्यूनिटी बढ़ाते हैं सर्दी-जुकाम वाले वायरस – स्टडी

लेकिन ध्यान रहें 
साथ ही यह भी ध्यान रहे कि टाइप 1 डायबिटीज से ग्रस्त या कुछ अन्य लोगों को उपवास नहीं करना चाहिए, वरना 24 घंटे का उपवास उनके लिए खतरनाक साबित हो सकता है. लेकिन जो लोग स्वस्थ हैं, उन्हें सप्ताह में कम से कम एक बार 24 घंटे या इससे अधिक समय का उपवास करना चाहिए. खुद को सुरक्षित रखते हुए आप जितना ज्यादा कैलोरी बर्न करेंगे, उपवास में उतनी ही तेजी से किटोसिस की प्रक्रिया शुरू होगी और उपवास का ज्यादा फायदा मिलेगा. मतलब, यह कि उपवास के दौरान काम करते रहना अच्छा रहेगा.

Tags: Health, Health News



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.