[ad_1]

Chemical Based Baby Products Affect : बच्चे की सेहत से कोई भी पेरेंट समझौता नहीं करना चाहते और जब बात स्किन एंड हेयर केयर की हो तो वे और भी ज्यादा चौकस रहते हैं. दैनिक जागरण में छपी न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक, अब एक नई स्टडी में पता चला है कि बच्चों के इस्तेमाल में आने वाले कई उत्पादों यानी बेबी प्रोडक्ट्स को अग्निरोधी (Retardant) व लचीला बनाने के लिए अधिक मात्र में रसायनों का इस्तेमाल मासूमों के दिमागी विकास में बाधक बन सकता है. रिसर्च के मुताबिक अब यह खतरा उससे कहीं ज्यादा है, जितना पहले सोचा जा रहा था. ऐसा बताया जा रहा है कि बेबी प्रोडक्ट्स में यूज किए जाने वाला ये रसायन,  (Chemicals) फ्लेम रिटरडेंट्स (Flame Retardants) और प्लास्टिसाइजर (Plasticizers) के रूप में जाने जाते हैं.

एन्वरयमेंटल हेल्थ पर्सपेक्टिव्स (Environmental Health Perspectives) नामक पत्रिका में प्रकाशित हालिया रिसर्च की रिपोर्ट में बताया गया है कि रिसर्चर्स की टीम ने दर्जनों मानव, पशु व सेल आधारित स्टडीज की समीक्षा की और आर्गेनोफास्फेट ईस्टर (Organophosphate Easter) नामक रसायनों के हल्के स्तर से होने वाले नुकसान का आंकलन किया.

यह भी पढ़ें- रोज जरूर खाएं एक केला, स्‍ट्रोक के खतरे को करता है कम

स्टडी में पाया गया कि इनसे भी बच्चों के आइक्यू, ध्यान व स्मरण शक्ति (IQ, attention and memory) प्रभावित होती है. इन रसायनों का प्रयोग इलेक्ट्रानिक आइटम, कार की सीट, बच्चों से जुड़े उत्पाद, फर्नीचर व भवन सामग्री के निर्माण में किया जाता है.  अमेरिका स्थित नार्थ कैरोलिना स्टेट यूनिवर्सिटी (North Carolina State University) में न्यूरोएंडोक्राइनोलाजिस्ट (Neuroendocrinologist) और इस स्टडी को लीड करने वाले हीथर पटिसौल (Heather Patisoul) का कहना है कि आर्गेनोफास्फेट ईस्टर बच्चे को इसलिए ज्यादा प्रभावित करते हैं, क्योंकि वे नाजुक होते हैं और अपनी साफ-सफाई का खुद ख्याल नहीं रख पाते.

यह भी पढ़ें- तेज सर्दी-जुकाम में भला अच्छी नींद कैसे आए? जानें एक्सपर्ट के सुझाए टिप्स

बेबी केयर प्रोडक्ट लेते वक्त कुछ सामान्य बातों का ध्यान रख आप उनके लिए बेस्ट चुन सकती हैं.

बच्चे के लिए स्किन केयर प्रोडक्ट
बच्चों की स्किन बहुत संवेदनशील होती है. पहले पांच सालों तक काफी देखभाल की जरूरत होती है. इसलिए प्रोडक्ट का चयन करते वक्त पूरी जानकारी ले लें. उसकी रिव्यू पढ़ लें. जानकारों से बातचीत करें, देखें कि वे क्लिनिकली प्रमाणित हैं या नहीं.

बच्चे के खिलौने 
खिलौने लेने से पहले रिव्यू पढ़ लें, क्योंकि कई खिलौने जैली वाले आ रहे हैं, ये दिखते काफी खूबसूरत हैं, पॉकेट फ्रैंडली भी होते हैं. जैली वाले खिलौने कई बार लीक कर जाते हैं. उनमें कई तरह के कैमिकल होते हैं. खिलौने समय-समय पर साफ करें ताकि बच्चा उन्हें मुंह में डाले तो भी जर्म्स न जाएं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.