[ad_1]

Parenting Tips In Hindi: किसी भी बच्‍चे के लिए माता-पिता (Parents) आदर्श होते हैं. वह पहली शिक्षा उन्‍हीं से लेता है. आप मानें या ना मानें, लेकिन आप की ही अच्‍छी आदतों (Habits) को ही बच्चे कॉपी करते हैं. दरअसल, बच्‍चे (Kids) अपने पैरेंट्स के साथ ही अधिकतर समय बिताते हैं. ऐसे में माता-पिता अपने बच्‍चों को अच्‍छी चीजें सिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ते.

कई बार बच्चे ऐसी गलतियों को भी आपसे सीखने लगते हैं जो आगे जाकर उनके लिए मुश्किलें खड़ी कर सकती हैं. ये सीख ताउम्र होती है और उन आदतों को सुधारने में बरसों का समय लग सकता है. ऐसे में यहां हम आपको बताते हैं कि आप अपने बच्‍चे के सामने किन चीजों को करने से बचें.

बच्‍चों के सामने बिलकुल न करें ये काम

1. आपस में बहस करना

अगर आपका बच्‍चा आपको किसी से बहस करते या कड़े लहजे में लड़ते-झगड़ते देखेगा तो उसके कोमल मन पर इसका गहरा प्रभाव पड़ सकता है. नतीजतन वह हिंसक विचारधारा का हो सकता है. कई बार ऐसा होता है कि बच्‍चे खुद को इन लड़ाइयों का दोषी मान लेते हैं और उदास और अवसादग्रस्‍त हो जाते हैं. जो उनके विकास में बाधा बनती है. इसलिए कभी भी बच्‍चों के सामने बसह करने से बचना बहुत ही जरूर होता है.

इसे भी पढ़ें : कोरोना काल में टीनएज बच्‍चों को इस तरह बनाएं जिम्‍मेदार, बिना स्‍ट्रेस आपस में बढ़ेगा प्‍यार

2. हिंसा न करें

किसी तरह का डोमेस्टिक वायलेंस (Domestic violence) बच्‍चों की जिंदगी हमेशा के लिए बर्बाद कर सकता है. ऐसे में घर पर कभी भी गालियों, अपशब्‍द और मारपीट से बचें. इसका बुरा असर बच्‍चों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य दोनों पर पड़ता है.बाद में उनके दिमाग पर ये चीजें ऐसी छप जाती हैं कि वे नशे की तरफ भी बढ़ सकते हैं.

3. जरूरत से ज्‍यादा सख्‍ती

हालांकि, बच्‍चों को अनुशासन सिखाना जरूरी है लेकिन यह उनके व्‍यावहार पर डिपेंड करता है. अगर आप किसी चीज को लेकर बच्चों पर जबरदस्ती दबाव बना रहे हैं तो बच्‍चा आपसे दूर हो सकता है और गलत संगत में पड़ सकता है.

4. सामाजिक गतिविधियों से दूरी

कई शोधों में पाया गया है कि अगर मां-बाप सोशली एक्टिव होते हैं तो उनके बच्‍चों पर इसका बहुत ही अच्‍छा असर पड़ता है. लेकिन अगर माता-पिता सामाजिक गतिविधियों से दूर रहते हैं तो बच्‍चे को भी लोगों से मिलने-जुलने में दिक्‍कत आने लगती है.

ये भी पढ़ें: बच्‍चे नहीं पीते पानी तो अपनाएं ये मजेदार ट्रिक्स

5. स्‍ट्रेस मैनेजमेंट की कमी

अगर आप थोड़ी भी समस्‍या आने पर बेचैन हो जाते हैं, अनाप-शनाप बोलने लगते हैं या गुस्‍से में रहते हैं तो बच्‍चों पर इसका बुरा प्रभाव पड़ता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.