[ad_1]

Protein requirement for body: जो लोग वर्कआउट (Workout) करते हैं, उनके लिए प्रोटीन सप्लीमेंट (Protein Supplement) उनकी जिंदगी का हिस्सा होता है. प्रोटीन का सेवन एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग हो सकता है, लेकिन इसके बिना डाइट अधूरी है. मेडिकल रिसर्चर्स एक सामान्य व्यक्ति के लिए प्रोटीन की खुराक को लेकर कुछ अलग सलाह देते हैं, उनका मानना है कि हर व्यक्ति को जितने प्रोटीन की आवश्यकता होती है वह उम्र, लिंग, हेल्थ और एक्टिविटी के लेवल पर निर्भर करता है. और आदर्श रूप से, आपकी डेली डाइट से आपको आवश्यक प्रोटीन मिलना चाहिए.

द इंडियन एक्सप्रेस ने इस विषय पर फोर्टिस अस्पताल मुलुंड के जनरल फिजिशियन डॉ संजय शाह और फोर्टिस अस्पताल कल्याण में क्लिनिकल न्यूट्रिशिनस्ट श्वेता महादिक से इस विषय पर विस्तार से बात की है.

लेकिन आपने भी देखा होगा कि कई स्पोर्ट्स ट्रेनर्स लोगों को शौकिया एथलीट बनाने में जुटे रहते हैं. ऐसे में सवाल तब उठता है कि क्या आपको व्यायाम करते समय प्रोटीन की आवश्यकता होती है, खासतौर पर जब आप वेटलिफ्टिंग या अन्य तरह की कड़ी एक्सरसाइज के जरिए अपना शरीर बनाने लगे हों?

डॉक्टरों का इस विषय पर कहना है, शरीर में मसल्स के बनने की प्रक्रिया कुछ इस तरह की होती है कि उसमें मासपेशियों के तंतुओं (filaments) को नुकसान पहुंचना और फिर उनका दोबारा बनना (Rebuilding)शामिल है. और इसके लिए बॉडी को अधिक प्रोटीन की जरूरत होती है.

हमें प्रोटीन की आवश्यकता क्यों है?
प्रोटीन एक आवश्यक मैक्रोन्यूट्रिएंट (Macronutrient)है जो अमीनो एसिड (Amino acids) से बना होता है. इन चेन के जैसे इन कंपाउंड्स को तोड़ा जा सकता है और लगभग कभी ना खत्म होने वाले अलग अलग पैटर्न में एक साथ वापस रखा जा सकता है, जिनका उपयोग कई प्रकार के सेल्स को बनाने के लिए किया जाता है.

डॉक्टर्स का कहना है, “आपका शरीर इनमें से कुछ अमीनो एसिड अपने आप बना सकता है, लेकिन उन सभी को नहीं. पशु उत्पादों में पाए जाने वाले संपूर्ण प्रोटीन आवश्यक अमीनो एसिड के आपके सबसे अच्छे स्रोत हैं जिन्हें आपका शरीर नहीं बना सकता है.”

लेकिन ध्यान रखें कि आपको अतिरिक्त प्रोटीन का सेवन नहीं करना चाहिए. वे बताते हैं, “डेयरी उत्पाद भी प्रोटीन से भरपूर होते हैं, इसी तरह से कुछ हरी पत्तेदार सब्जियां और फलियां हैं. बहुत अधिक प्रोटीन आपके गुर्दे पर दबाव डाल सकता है, इसलिए यदि आप एक्सरसाइज किए बिना वजन कम करने या बनाए रखने के लिए प्रोटीन की खुराक का उपयोग कर रहे हैं, तो आपको अपने आहार को ताजे फल, सब्जियां, साबुत अनाज, हेल्दी फैट और 1-2 लीटर पानी के साथ संतुलित करने की आवश्यकता है.पनीर, सोया दूध, दाल, छोले, बीन्स, बादाम का दूध, काजू और तेल के बीज जैसे सूरजमुखी, कद्दू के बीज, तिल आदि शाकाहारियों और शाकाहारी लोगों के लिए प्रोटीन के बेस्ट ऑप्शंस हैं, ”

प्रोटीन का सही तरीके से सेवन
एक स्वस्थ्य व्यक्ति को प्रतिदिन 1 ग्राम प्रोटीन प्रति किलो (शरीर के वजन के हिसाब से) की आवश्यकता होती है. मतलब अगल आपका वजन 80 किलो है तो आपको प्रतिदिन 80 ग्राम प्रोटीन लेना है. हालांकि, प्रशिक्षण के दौरान, उन्हें शरीर के वजन के प्रति पाउंड लगभग आधा ग्राम प्रोटीन की आवश्यकता होती है.

जानकारों का कहना है, “यदि आप पतला होना चाहते हैं या आपको अपने आहार में अधिक प्रोटीन की आवश्यकता है, तो अपने ट्रेनिंग के दिनों में प्रोटीन शेक ले सकते हैं. उदाहरण के लिए, यदि आप नाश्ता छोड़ते हैं या सुबह की मीटिंग के लिए जल्दी में है तो प्रोटीन शेक पीने से आपको बेहतर ढंग से काम करने के लिए जरूरी एनर्जी मिल सकती है. हालांकि, ये भोजन की जगह नहीं ले सकते; उनकी भूमिका केवल आपके आहार को पूरक करने की है,”

इसमे एक रिस्क फैक्टर भी है, वो ये कि सभी खाद्य और पेय पदार्थ कैलोरी प्रदान करते हैं. प्रोटीन की खुराक – शेक के रूप में कोई अपवाद नहीं है. लेकिन ट्रेनिंग के दौरान यदि इसे लेते हैं तो ये सबसे अच्छा काम करते हैं क्योंकि इससे आपकी मांसपेशियों के बढ़ने और शरीर के फैट को बर्न करने में मदद मिलेगी.

ध्यान रहे
डॉक्टरों का कहना है कि बिना किसी एक्सरसाइज के अपनी डाइट में प्रोटीन सप्लीमेंट को शामिल करने की सलाह नहीं दी जाती है. “यदि आप ओवरलोड होंगे तो आपका वजन बढ़ सकता है – खासकर यदि आपका सुस्त लाइफस्टाइल है. ऐसे में आप अपने शरीर में उल्टी और दस्त के लक्षणों के साथ हाइपरएमिनोएसिडेमिया (रक्तप्रवाह में अमीनो एसिड की अधिकता) भी विकसित कर सकते हैं; अन्य स्वास्थ्य चिंताओं में गुर्दे की समस्याएं शामिल हो सकती हैं. इसके अलावा सेवन से किडनी का मेटाबॉलिज्म धीमा हो जाएगा.

Tags: Fitness, Food diet, Health, Lifestyle



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.