[ad_1]

Air Pollution Effect: एक तो नार्मल तौर पर भी वातावरण (Atmosphere) में वायु प्रदूषण की दिक्कत बनी ही रहती है. जो दिवाली के बाद कई गुना ज्यादा बढ़ जाती है. वायु प्रदूषण (Air pollution) वैसे तो हर किसी की सेहत के लिए बहुत नुकसानदायक है. लेकिन इसका खतरा बुज़ुर्गों, अस्थमा और दिल के पेशेंट्स के लिए और भी ज्यादा बढ़ जाता है.

दरअसल जो हवा सांस के जरिये हमारे शरीर में पहुंचती है वो कारखानों, बिजली संयंत्रों, जलते कोयले, लकड़ी और वाहनों से निकलने वाले हानिकारक प्रदूषकों से दूषित होती है. जिसकी वजह से सेहत को कई तरह की दिक्कतें और बीमारियां होने का खतरा काफी बढ़ जाता है. आज हम आपको बताते हैं कि वायु प्रदूषण का असर बुजुर्गों (Senior-citizens) की सेहत पर किस तरीके से पड़ता है. साथ ही इससे बचने के लिए क्या तरीके अपनाये जा सकते हैं. आइये जानते हैं इसके बारे में.

ये भी पढ़ें: सालों पुरानी कब्ज में भी फायदेमंद होता है एनिमा, जानें इसके प्रकार

 सांस लेने में तकलीफ

बढ़ती उम्र की वजह से बुजुर्गों के शरीर के कई अंग धीमी गति से कार्य करते हैं और यही हाल लंग्स का भी होता है. इसी के चलते उनके लंग्स ताजी हवा को प्रॉपर तरीके से फिल्टर नहीं कर पाते हैं. जिसकी वजह से प्रदूषित हवा में सांस लेने से बुजुर्गों को सांस से जुड़ी दिक्कतें हो सकती हैं.

आंखों में परेशानी

वायु प्रदूषण के चलते कई बार बुज़ुर्गों को आंखों से सम्बंधित दिक्कतें भी होने लगती हैं. आंखों से पानी आना और आंखों में खुजली होने के साथ ही कई बार आंखों की रोशनी भी धुंधली होने लगती है.

सेहत सम्बन्धी दिक्कतें

युवाओं की अपेक्षा बुजुर्गों का इम्यून सिस्टम बहुत कमजोर होता है. जिसकी वजह से उनको हानिकारक प्रदूषकों से निपटने में कठिनाई होती है. इसके चलते उनको खांसी, गले में खराश जैसी कई तरह की  दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

हार्ट में दिक्कत

वायु प्रदूषण बुजुर्गों के हार्ट पर भी  बुरा असर डालता है. प्रदूषित हवा में सांस लेने से रक्त का प्रवाह धीमा पड़ जाता है. जिससे चलते बुजुर्गों में हार्ट अटैक का खतरा काफी बढ़ जाता है.

ये भी पढ़ें: जुकाम को न करें नजरअंदाज, हो सकता है साइनोसाइटिस

वायु प्रदूषण से इस तरह से करें बुजुर्गों का बचाव

– वायु को शुद्ध करने के लिए घर और आसपास एलोवेरा, गार्डन मम, स्पाइडर प्लांट, पीस लिली जैसे पौधे लगाएं.

– बुजुर्गों को वायु प्रदूषण से बचाने के लिए घर में एयर प्यूरिफायर लगवाएं. यह हानिकारक प्रदूषकों को फिल्टर करता है जिसकी वजह से घर के अंदर की हवा शुद्ध होती है.

– घर के अंदर स्मोकिंग न करें साथ ही धूप, उपले सहित किसी और तरह के धुएं से भी बुज़ुर्गों को दूर रखें.

– सुबह किसी गार्डन या पार्क की सैर करें या घर के गार्डन या छत पर कुछ देर टहलें. लेकिन बाकी समय घर से बाहर निकलने से बचें.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.