[ad_1]

benefits and side effects of whey protein: लोग व्हे प्रोटीन (whey) को सप्लीमेंट (supplementation) के तौर पर लेते हैं. जो लोग हार्ड एक्सरसाइज करते हैं, वे अमूमन इस सप्लीमेंट को लेते हैं. इससे मसल्स में प्रोटीन का सिंथेसिस अच्छा होता है और जिनके मसल्स का ग्रोथ सही से नहीं होता है, उनका ग्रोथ बढ़ जाता है. सीधे शब्दों में कहें तो व्हे प्रोटीन मसल्स के ग्रोथ में सहायक है. हालांकि व्हे प्रोटीन के कई और फायदे भी हैं.

दूध में दो तरह के प्रोटीन पाए जाते हैं. कैसीन और व्हे (casein and whey). व्हे प्रोटीन को दूध में कैसीन से अलग किया जा सकता है.चीज के साथ जो बायप्रोडक्ट निकलता है वही व्हे प्रोटीन है. इसे मट्ठा भी कहा जाता है. व्हे प्रोटीन को संपूर्ण प्रोटीन माना जाता है क्योंकि इसमें सभी 9 तरह के आवश्यक एमिनो एसिड पाए जाते हैं.इसमें लैक्टोज की मात्रा बहुत कम होती है.अब इसके फायदे को समझते हैं.
व्हे प्रोटीन के फायदे

इसे भी पढ़ेंः उत्तर भारत में भारी शीतलहर की आशंका, भारी ठंड से खुद को ऐसे बचाएं, जानिए तरीका 

वेट लॉस में
मेडिकल न्यूज टूडे के मुताबिक एक अध्ययन में पाया गया कि व्हे प्रोटीन के सेवन से शरीर की चर्बी में आश्चर्य़जनक रूप से कमी आई और मसल्स का ग्रोथ भी बेहतर तरीके से हुआ.

एंटी-कैंसर गुण
एक रिसर्च में दावा किया गया कि व्हे प्रोटीन में एंटी-कैंसर गुण है. हालांकि अभी इस पर पुख्ता प्रमाण की जरूरत है.

कोलेस्ट्रॉल कम करता है
ब्रिटिश जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक एक अध्ययन में शामिल कुछ मोटे लोगों को जब 12 सप्ताह तक व्हे प्रोटीन दिया गया तब उनमें टोटल कोलेस्ट्रॉल का स्तर प्रभावी तरीके से कम हो गया. यहां तक कि इंसुलिन लेवल भी कम हो गया.

इसे भी पढ़ेंःजोड़ों के दर्द से छुटकारा पाना चाहते हैं तो इन उपायों को डेली रूटीन में शामिल करें, जल्दी मिलेगी राहत

अस्थमा
अध्ययन के मुताबिक व्हे प्रोटीन का सेवन अस्थमा की गंभीरता को कम करने में फायदेमंद है. अध्ययन में दावा किया गया कि 1 महीने तक अस्थमा से पीड़ित कुछ बच्चों में जब रोजाना 10 ग्राम व्हे प्रोटीन दो बार दिया गया तो उनमें इम्यूनिटी बूस्ट हुई जिससे अस्थमा भी कमजोर पड़ गया.

साइड इफेक्ट क्या-क्या है
व्हे प्रोटीन पर जितने भी अध्ययन हुए हैं उनका आकार बहुत छोटा है. इसलिए विशेषज्ञों का मानना है कि इस पर बड़े पैमाने पर रिसर्च की जरूरत है. हालांकि कुछ ऐसे साइड इफेक्ट हैं जो पहले से प्रमाणित हैं. उदाहरण के लिए व्हे प्रोटीन के अत्यधिक सेवन से पेट में दर्द, क्रैंप की शिकायत हो सकती है. इसके अलावा बेचैनी, सिर दर्द, थकान, कील, मुहांसे भी हो सकते हैं.

Tags: Health, Lifestyle



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.