[ad_1]

ways to warm up feet and hands in winter: सर्दी (Winter) में कुछ व्यक्तियों के हाथ (Hands) – पैर (Feet) शरीर के अन्य अंगों की तुलना में ज्यादा ठंडे पड़ने लगते हैं. हालांकि हमारे शरीर का डिजाइन इस तरह से हुआ है कि बॉडी का तापमान संतुलित बना रहता है. हेल्थलाइन की खबर के मुताबिक जब बाहर ज्यादा ठंड रहती है तब हमारी बॉडी यह सुनिश्चित करती है कि शरीर के महत्वपूर्ण अंगों तक खून के प्रवाह को बरकरार रखा जाए ताकि इन अंगों पर बाहरी ठंड का असर न हो. इस स्थिति में रक्त के प्रवाह में अंतर आता है. यानी शरीर के महत्वपूर्ण अंगों को गर्म करने के कारण रक्त का प्रवाह हाथ और पैर तक जाते-जाते कम होने लगता है. यही कारण है कि ठंड के मौसम में कुछ लोगों को हाथ और पैर में ज्यादा ठंड लगने लगती है. बाहर ज्यादा ठंड होने पर हाथ और पैर की रक्त वाहिकाएं सिकुड़ने लगती है ताकि शरीर के अंदरुनी हिस्सों में गर्मी की जो कमी हुई है, उसकी भारपाई की जा सके. इस परिस्थिति में कुछ लोगों के हाथ और पैर सर्दी में स्वतः ही ठंड पड़ने लगता है. इसका सीधा सा मतलब यह हुआ कि सर्दी में हाथ और पैर की ओर रक्त संचार (Blood circulation) कम होने लगता है. हालांकि इससे घबराने की जरूरत नहीं है. यह एक सामान्य प्रक्रिया है. इससे बचने के लिए सिर्फ आपको अतिरिक्त उपाय करने की जरूरत है.

हाथ-पैर को ठंड से बचाने के लिए इस तरह के उपाय करें

इसे भी पढ़ेंः सफर में उल्टी से परेशान हैं, तो इन घरेलू उपायों से दूर हो सकती है यह बीमारी

गर्म कपड़ें पहनेः यदि सर्दी के दौरान आपके हाथ-पैर अक्सर ठंड पड़ने लगते हैं, तो हाथ-पैर में गर्म कपड़े जरूर पहनें. खासकर जब आप बाहर निकल रहे हैं, तो ग्लब्स, वार्म सॉक्स, वार्म कोट जरूर पहनें. जो भी कपड़ा पहनें, टाइट पहनें. टर्टलनेक कपड़ सर्दी में ज्यादा बढ़िया साबित हो सकता है.

स्वेटर पहनेः सर्दी में बराबर स्वेटर जरूर पहनें. गर्म कपड़ों से पूरे शरीर को ढके रहें.

रोजाना एक्सरसाइज करेः अगर आप लगातार ठंड से परेशान रहते हैं, तो रोजाना एक्सरसाइज करें. वॉकिंग भी आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है. इससे ब्लड सर्कुलेशन बना रहता है.

इसे भी पढ़ेंः सिंपल ब्लड टेस्ट से 20 साल पहले डायबिटीज का पता लगा लिया जाएगा

हीटिंग पैड का इस्तेमाल करेः यदि ठंड में आपका शरीर गर्म नहीं रहता या हाथ-पैर बहुत ज्यादा ठंडा होने लगता है, तो इलेक्ट्रिक हीटिंग पैड का इस्तेमाल करें. बाजार में विभिन्न तरह के हीटिंग पैड मिलते हैं.

तेल से मालिश करेंः जब भी हाथ या पैर ठंडे पड़ जाएं तो गुनगुने तेल से मालिश करें. मसाज करने से उंगलियों और पंजों में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है जिससे ऑक्सीजन की सप्लाई बेहतर होती है. पैरों में अकड़न और खुजली भी नहीं होती और गर्महाट बनी रहती है.

सेंधा नमक है कारगर: सेंधा नमक में शरीर को अंदर से गर्म रखने की क्षमता होती है. ये दर्द और सूजन को भी कम करते हैं. एक टब गुनगुना पानी में सेंधा नमक को डाल दें और इससे अपने हाथ और पैरों की सिंकाई करें. ऐसा करने से उंगलियों में खुजली नहीं होगी और हाथ पांव ठंडे नहीं पड़ेगे.

आयरन से भरपूर आहार लेः आयरन की कमी एनीमिया का कारण हो सकता है. इसलिए चुकंदर, पालक, खजूर, अखरोट, सायोबीन, सेब जैसे आयरन युक्त आहार का सेवन करें.

पर्याप्त पानी पिएः कुछ लोगों को लगता है कि सर्दी में प्यास नहीं लगती, तो पानी पीने की आवश्यकता भी कम होती है. लेकिन यह गलत है. शरीर में पानी की कमी की वजह से ब्लड सर्कुलेशन सही से नहीं हो पाएगा जिसके कारण ठंड ज्यादा लग सकती है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.