[ad_1]

Relationship Anxiety : रिलेशनशिप में चिंता या एंग्जाइटी (Anxiety) महसूस करना नॉर्मल बात हो सकती है, ये हमेशा एक बुरा संकेत नहीं होती है. कभी-कभी हमारे पास बेचैनी का एक कारण होता है, और उस भावना का होना हमारे लिए यह बताने का संकेत हो सकता है कि कुछ सही नहीं है. लेकिन जब ये भावना एक अनहेल्दी लेवल पर पहुंच जाती है, तो रिलेशनशिप एंग्जाइटी (Relationship Anxiety) वास्तव में हमारे खिलाफ काम कर सकती है, और हमें उन समस्याओं में विश्वास दिलाती है जो वास्तव में नहीं हैं.

यूके के अखबार मेट्रो की रिपोर्ट के अनुसार, रिश्तों में विशेषज्ञता रखने वाले मनोचिकित्सक (Psychotherapist Specialising in Relationships) नील विल्की (Neil Wilkie) के अनुसार,  ‘रिलेशनशिप के सभी चरणों के दौरान रिलेशनशिप एंग्जाइटी बहुत आम है.’ यह समझाते हुए कि समय के दौरान रिश्तों में उतार-चढ़ाव होते हैं, वो कहते हैं कि महामारी ने ‘भय और अनिश्चितता बढ़ा दी है – परिणामस्वरूप हमारे तनाव का लेवल बढ़ गया है. याद रखें कि हम अतीत को नहीं बदल सकते हैं, लेकिन हम इसे बदल सकते हैं कि हम इसे भविष्य में कैसे प्रभावित कर सकते हैं.’

नील ने रिलेशनशिप एंग्जाइटी का अनुभव करने वाले अपने क्लाइंट्स के कुछ विचार बताए हैं, आप भी जानिए कि इससे कैसे निपटा जाए.

‘वह मुझसे प्यार नहीं करते’
नील कहते हैं कि इस तरह के विचारों से निपटने के लिए, आपको खुद से पूछना चाहिए कि इसके लिए आपके पास क्या सबूत हैं? क्या उन्होंने (आपके पार्टनर ने) आपके साथ व्यवहार करने का तरीका बदल दिया है? नील सलाह देते हैं, ‘इस बारे में एंग्जाइटी से निपटने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप कैसा महसूस कर रहे हैं, इस बारे में खुली और ईमानदार चर्चा करने के लिए समय निकालें और कोई जगह डिसाइड करें, जहां बैठकर बात की जाए.

यह भी पढ़ें- एसिडिटी से हैं परेशान तो एक्सपर्ट के बताएं इन टिप्स को अपनाएं

‘मैं बहुत अच्छा/अच्छी नहीं हूं’
कम आत्मसम्मान प्रभावित कर सकता है कि आप रिश्ते में खुद को कैसे देखते हैं. नील बताते हैं कि अपने आप को चिंता से दूर रखें, आपको इस पर विचार करना चाहिए कि क्या वे अचानक बहुत बेहतर हो गए हैं या आप खराब हो गए हैं? इसकी संभावना ना के बराबरा है. इसलिए किसी और की परवाह किए बिना अपने भीतर योग्य महसूस करना महत्वपूर्ण है.

‘मैं उनके लिए मायने नहीं रखता/रखती’
नील कहते हैं, आप रिश्ते में कितना सुरक्षित महसूस कर रहे हैं और अचानक इसमे बदलाव का क्या कारण हो सकता है? ‘क्या यह कुछ ऐसा है, जो उन्होंने आपको सीधे बताया गया है या क्या आप उन्हें पढ़ने का मन बना रहे हैं?’ वो ऐसा कुछ नहीं करने की सलाह देते हैं, क्योंकि यह तथ्यों के साथ नहीं आता है. नील कहते हैं: ‘हो सकता है कि उन पर उन पर बहुत दबाव हो और आप उनकी प्राथमिकता सूची से नीचे गिर गए हों, सिर्फ इसलिए नहीं कि आप उनके लिए मायने नहीं रखते. उनसे विशेष रूप से पूछें कि आपको क्या चाहिए और देखें कि वे कैसे प्रतिक्रिया देते हैं,’

यह भी पढ़ें- रोमांटिक रिलेशनशिप शारीरिक और मानसिक सेहत को रखता है ठीक- एक्सपर्ट

‘हम अलग हो रहे हैं’
नील कहते हैं कि ऐसा रिश्तों में हो सकता है, जब कपल्स जीवन से विचलित हो जाते हैं और रिश्ते को पोषण देने में समय और ऊर्जा लगाना भूल जाते हैं. पार्टनर से इस बारे में चर्चा करें कि आप रिश्ते के बारे में कैसा महसूस कर रहे हैं और आप क्या अलग होना चाहते हैं? फिर अपने साथी से अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए कहें. बिना किसी रुकावट के एक-दूसरे की सुनें और देखें कि उनमें क्या समानताएं हैं. फिर इस बात पर सहमत हों कि आप चीजों को बेहतर बनाने के लिए क्या करने जा रहे हैं.

‘कुछ सही नहीं है’
आपकी अंदर की फीलिंग आपको बता रही है कि रिश्ते में कुछ गड़बड़ है, लेकिन आप अपनी उंगली उस जगह नहीं रख सकते जहां दिक्कत है. अपनी प्रवृत्ति (Instincts) पर भरोसा करना और वास्तविकता का पता लगाना महत्वपूर्ण है. नील कहते हैं, ‘अपने साथी से बात करें कि आप कैसा महसूस कर रहे हैं और देखें कि क्या वे भी ऐसा ही महसूस कर रहे हैं. वो सुझाव देते हैं कि आप अपने आप को 10 में से रेटिंग दें कि आप एक रिश्ते के निम्नलिखित प्रमुख स्तंभों पर कैसा महसूस कर रहे हैं. कम्यूनिकेशन, कनेक्शन, कमिटमेंट, मस्ती, विकास और विश्वास. अपने स्कोर की तुलना करें और बात करें कि कहां बदलाव की जरूरत है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.