[ad_1]

Health benefits of fake laughter: जब भी हम लोगों से बात करते हैं और जैसे ही कुछ मजाक का मौका आता है, हम बार-बार हंसने (Laugh) लगते हैं. बातचीत की यह सामान्य प्रक्रिया है लेकिन कई बार बिना वजह भी हमें हंसना पड़ता है. क्योंकि वहां मौजूद सभी लोग हंस रहे होते हैं, इसलिए हमें भी हंसने का नाटक (Fake laughter) करना पड़ता है. यदि आप भी ऐसा करते हैं, तो इसमें कोई गलती नहीं है बल्कि इससे आपका फायदा ही होता है. एक नई रिसर्च में यह बात सामने आई है कि अगर आप फेक हंसी भी हंसते हैं, तो भी इससे एंग्जाइटी और तनाव (anxiety and stress) से छुटकारा मिल सकता है. तनाव और बेचैनी को भगाने के लिए हंसना बेहतरीन एक्सरसाइज (exercise) है. हालांकि भारतीय योग (Yoga) में हंसी के अभ्यास को बहुत पहले से आवश्यक मान लिया गया है. लेकिन अब विदेश में हंसी यानी लाफ्टर थेरेपी (laughter therapy) को जगह दी जा रही है. हाल ही में ब्रिटेन के ब्रिंघटन (brighton) में छठी कक्षा के बाद लाफ्टर थेरेपी को शामिल किया गया है. लाफ्टर थेरेपी जिसे लाफ्टर योगा (laughter yoga ) भी कहा जाता है, में चेहरे पर हंसी लाने का अभ्यास कराया जाता है. इसमें ताली बजाते हुए या डांसिंग करते हुए हा हा हा करना होता है. रिपोर्ट में कहा गया है कि हा हा हा करना भी हंसने के बराबर ही है.

इसे भी पढ़ेंः Winter Care: सर्दियों में सोने से पहले अंजीर और दूध का करें सेवन, होंगे गजब के फायदे

रोजाना औसतन 17 बार आती है हंसी
डेलीमेल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक शरीर के ऑवरऑल फायदे के लिए हंसना बहुत अच्छी एक्सरसाइज है. रिपोर्ट के मुताबिक एक सामान्य वयस्क रोजाना औसतन 17 बार हंसता है. हंसने से शरीर पर कई तरह के असर होते हैं जिनसे तनाव को भगाने में मदद मिलता है. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) में इवोल्यूशनरी साइकोलॉजी के प्रोफेसर रोबिन डनबार (Robin Dunbar) ने बताया कि हंसने की फिजिकल एक्टिविटी लंग्स में मौजूद डायफ्राम(diaphragm) को पंप करती है. इससे लंग्स में मौजूद नकारात्मक एयर का निकास होने लगता है. इस प्रक्रिया में ब्रेन से इंडोर्फिन (endorphin) रसायन निकलता है, जो तनाव को दूर भगाने में मदद करता है.

इसे भी पढ़ेंः सर्दियों में नाक हो जाती है ठंडी, तो इन आसान उपायों से इससे छुटकारा पाएं

नाइट्रिक ऑक्साइड के कारण तनाव का स्तर कम
इंडोर्फिन पूरे शरीर को बेहद आराम मिलता है. इससे तनाव पैदा करने वाले कार्टिसोल हार्मोन का स्तर कम हो जाता है और मन को खुशी मिलती है. इंडोर्फिन के कारण नाइट्रिक ऑक्साइड (nitric oxide) निकलता है जो मसल्स में आए तनाव को कम करता है. इसके निकलते ही तनाव को घटना तुरंत शुरू हो जाता है. नाइट्रिक ऑक्साइड के कारण ब्लड वेसल्स भी चौड़े होने लगते हैं. यही कारण है कि हंसने के अभ्यास से ब्लड प्रेशर भी कम होता है.

दिमाग का हाइपोथैलमस सक्रिय हो जाता
यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लंदन (University College London) के प्रोफेसर सोफी स्कॉट (Sophie Scott) बताती हैं कि हंसने से तनाव को खत्म करने में सकारात्मक असर क्यों होता है, यह तो पता नहीं चल पाया है लेकिन यह साफ है कि हंसने की गतिविधियों के कारण दिमाग के हाइपोथैलमस (hypothalamus ) सक्रिय हो जाता है जो तनाव और एंग्जाइटी को कम करने में मदद करता है.

Tags: Health, Lifestyle



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.