[ad_1]

Exercise to treat piles: बवासीर एक दर्दनाक समस्या है, जिसमें मलद्वार के अंदर या बाहर के टिश्यूज में सूजन आ जाती है. इस बीमारी में पेट साफ करते हुए ब्लीडिंग भी हो सकती है. हालांकि, यह एक आम समस्या है, लेकिन इसके कारण हो रही तकलीफ काफी असहनीय होती है. कुछ एक्सरसाइज करने से बवासीर की समस्या (Haemorrhoids treatment) से ना सिर्फ बचाव या राहत पाई जा सकती है, बल्कि नियमित अभ्यास से इसे ठीक भी किया जा सकता है. आइए बवासीर से राहत पाने में मदद करने वाली एक्सरसाइज के बारे में जानते हैं.

बवासीर (Piles Causes) होने के पीछे सबसे मुख्य कारण पेट की गड़बड़ी होती है, क्योंकि कब्ज, डायरिया जैसी समस्या पाइल्स का खतरा बढ़ा सकते हैं. लेकिन निम्नलिखित एक्सरसाइज आपके पाचन तंत्र को मजबूत रखकर पेट स्वस्थ बनाती है. मगर ध्यान रखें कि इन एक्सरसाइज को सुबह के समय खाली पेट करने से ही ज्यादा फायदा मिलेगा.

ये भी पढ़ें: Post-Menopause में महिलाएं कैसे बनाएं हड्डियों को मजबूत, जान लें जरूरी टिप्स

1. बालासन – Child Pose
बालासन पेट के लिए काफी बेहतरीन एक्सरसाइज है और साथ ही यह कमर, पैर और मलद्वार समेत कूल्हों की सभी मसल्स को रिलैक्स करने में मदद करती है. इसे करने के लिए सबसे पहले योगा मैट पर घुटनों के बल बैठ जाएं और कूल्हों को एड़ी पर टिका लें. अब धीरे-धीरे हाथों को आगे की तरफ जमीन पर फैलाते हुए माथे को जमीन पर छूने की कोशिश करें. इस अवस्था में शरीर को रिलैक्स करें और 5 मिनट तक रहें.

2. लेग्स-अप वॉल पोज – Legs Up Wall Pose
यह काफी आसान एक्सरसाइज है, जो काफी हद तक योगा की तरह भी लगती है. इससे कूल्हों और कमर के हिस्से में ब्लड सर्कुलेशन सुधरता है और बवासीर (पाइल्स) से राहत देता है. इसे करने के लिए एक दीवार के सहारे लेट जाएं. अब अपने पैरों को दीवार के सहारे ऊपर की तरफ ऐसे करें कि आपके कूल्हे और एड़ियां दीवार पर छुएं. हाथों को आरामदायक स्थिति में जमीन पर रखें और गहरी सांस लें. 15 मिनट तक इसी स्थिति में रहें.

ये भी पढ़ें: Shilpa Shetty ने इन 4 योगासनों से की नवंबर की शुरुआत, मिलता है ये खास फायदा

3. पेल्विक फ्लोर कॉन्ट्रैक्शन – Pelvic Floor Contraction
पेल्विक फ्लोर कॉन्ट्रैक्शन एक्सरसाइज आपके कूल्हों की मसल्स को तनाव से बचाती हैं और पाइल्स का दर्द कम करती हैं. इस एक्सरसाइज को करने के लिए आपको मैट पर कमर के बल सीधा लेट जाना है. इसके बाद अपने मलद्वार की मसल्स को इस तरह सिकोड़ें, जैसे कि आप पेट की गैस पास करने से रोक रहे हों. इस कॉन्ट्रैक्शन को 5 सेकेंड्स तक जारी रखें और फिर मसल्स को रिलैक्स कर दें. ऐसा ही 5 बार करें.

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.