[ad_1]

Tulsi and Moneyplant- India TV Hindi
Image Source : INSTAGRAM/ SHAHMANAS.E, BOTANICVALLEY
Tulsi and Moneyplant

आजकल ज्यादातर लोग घर में एक छोटा सा गॉर्डन या फिर बगीचा जरूर बनाते हैं। इसमें वो सभी प्रकार के पेड़ों को लगाते हैं जिससे कि ना केवल उन्हें ताजी हवा मिल सकते बल्कि आसपास हरियाली भी रहे। अगर आपने भी घर में छोटा सा गॉर्डन बनाया हुआ है तो ये 4 पौधे घर में जरूर रखें। वास्तु के अनुसार अगर आपके घर में ये 4 पौधे होंगे तो घर परिवार में सुख और समृद्धि बनी रहेगी और कर्ज से भी आपको मुक्ति मिलेगी। जानिए ये चार पौधे कौन से हैं। 

तुलसी का पौधा


हिंदी धर्म में तुलसी के पौधे का खास महत्व है। यहां तक कि तुलसी के पौधे की पूजा भी की जाती है और इसकी पत्तियों का कई पूजा पाठ में इस्तेमाल भी किया जाता है। वहीं वास्तु शास्त्र के अनुसार तुलसी के पौधे को घर में लगाने से कई फायदे होते हैं। इसे घर में लगाने से नकारात्मक ऊर्जा घर से दूर रहती है और लक्ष्मी जी की कृपा भी घर पर बनी रहती है। हालांकि इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि तुलसी का पौधा घर में पूर्व या फिर उत्तर दिशा में हो। इसके साथ ही रोज शाम तुलसी के पौधे के पास दीया जरूर जलाएं।

Vastu Tips: इस पौधे को घर में लगाने से नहीं होगी धन की कमी, वास्तु दोष भी होगा दूर

Moneyplant

Image Source : INSTAGRAM/ JEN.LOVESPLANTS

Moneyplant

मनी प्लांट 

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में मनी प्लांट का पौधा लगाना शुभ माना जाता है। मान्यता है कि मनी प्लांट का पौधा जितना हरा भरा रहता है उतना ही घर के लिए अच्छा रहता है। इसे लगाने से आर्थिक तंगी दूर होती है। इसके साथ ही कर्ज से भी छुटकारा मिल जाता है। बस इस बात का ध्यान रखें कि इसे घर की दक्षिण-पूर्व दिशा में ही लगाएं।

बांस का पौधा

वास्तु के अनुसार घर में बांस का पौधा लगाना भी शुभ होता है। मान्यता है कि इसे घर पर लगाने से दुर्भाग्य दूर होता है। साथ ही घर में धन-धान्य और सौभाग्य में वृद्धि होती है। 

Shami Plant

Image Source : INSTAGRAM/ VOICE_OF_PLANT

Shami Plant 

शमी का पौधा

वास्तु शास्त्र के अनुसार शमी का पौधा घर में लगाने से कर्ज से मुक्ति मिलती है। इसके साथ ही ये पौधा रोगों से भी छुटकारा दिला सकता है। शमी के पौधे को शनि देव का प्रिय पौधा कहा जाता है। 



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.