[ad_1]

Winter Diet: टमाटर (Tomato) या सोलनम को आम तौर पर एक सब्जी के रूप में वर्गीकृत किया जाता है, लेकिन टैक्निकली यह एक फल होता है. टमाटर मूलत: दक्षिण अमेरिका का उत्पाद है और यह नाइटशेड परिवार के एक पौधे की बेरी है. टमाटर न केवल आपके स्वाद को बढ़ाता है बल्कि आवश्यक पोषक तत्वों की उपस्थिति के कारण आपके स्वास्थ्य को भी लाभ पहुंचाता है. टमाटर में एंटी-ऑक्सीडेंट (anti-oxidants) और एंटी-कार्सिनोजेनिक गुण होते हैं. टमाटर की ऊपरी पतली परत लाल रंग की होती है और उसका गूदा अम्लीय, मीठा और रसदार होता है. टमाटर में पानी की मात्रा 94.5% होती है. टमाटर का इस्तेमाल कई तरह के व्यंजन में किया जाता है. टमाटर का उपयोग व्यंजन में चार चांद लगा देता है. कई सारे गुणों से भरपूर टमाटर के कुछ दुष्प्रभाव भी (Benefits and Disadvantages) हैं आइए जानते हैं टमाटर से होने वाले फायदे और नुकसान.

टमाटर खाने के फायदे
टमाटर का सेवन पाचन और रक्त परिसंचरण में सुधार, रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने, शरीर को डिटॉक्सीफाई करने, समय से पहले बूढ़ा होने से रोकने, द्रव संतुलन में सुधार और सूजन को कम करने में मदद करता है. यह सब्जी मधुमेह, त्वचा की समस्याओं और मूत्र पथ के संक्रमण से भी बचाती है और आंखों की रोशनी और पेट के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करती है. यह ब्लड में शुगर के लेवल को कम करने का भी काम करता है.

इसे भी पढ़ें : सिर्फ कुकिंग की चीज नहीं है सिरका, कई चीजों की क्लिनिंग में भी माहिर है विनेगर

टमाटर खाने के नुकसान
किसी भी चीज की अधिक मात्रा खराब होती है”, टमाटर का अधिक सेवन आपके स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकते हैं. पाचन संबंधी समस्याओं से लेकर दस्त, किडनी की समस्या या शरीर में दर्द हो सकता है. टमाटर की अम्लीय प्रकृति के कारण, टमाटर के बहुत अधिक सेवन से एसिड रिफ्लक्स हो सकता है. जैविक रूप से नहीं उगाए गए टमाटरों में कीटनाशक अवशेषों का उच्च स्तर हो सकता है. टमाटर में पोटैशियम होता है और खून में पोटैशियम का उच्च स्तर किडनी की कार्यप्रणाली को खराब कर सकता है. इसलिए टमाटर का सीमित मात्रा में सेवन करने की सलाह दी जाती है.

इसे भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी में कोरोना का मां और बच्चे पर पड़ता है अलग-अलग प्रभाव – स्टडी

टमाटर एक गर्म मौसम की फसल है और महीने में 21-23 डिग्री सेंटीग्रेड के औसत तापमान के में सबसे अच्छी बढ़ती है. लंबे समय तक बारिश और लंबे समय तक सूखे दोनों ही स्थिति पौधे की वृद्धि और फलने के लिए हानिकारक होते हैं. टमाटर एक बहुमुखी पौधा है यह हल्की रेतीली से लेकर भारी मिट्टी तक लगभग सभी किस्मों की मिट्टी पर उग सकता है.  (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindinews18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags: Health, Health News, Lifestyle



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.